ग्रेटर नोएडा: प्रदूषण के बीच अंतर्राष्ट्रीय यू्रोलॉजिस्ट का तीन दिवसीय सम्मेलन का आगाज

                                

जहां एक और दिल्ली एनसीआर में जहरीले प्रदूषण ने लोगों का जीना मुहाल किया हुआ है। वहीं दूसरी और दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में देश विदेश के जाने माने डॉक्टर्स पर्यावरण को बचाने की मुहिम में जुट चुके हैं। ना केवल प्रैक्टिस के दौरान कैसे प्लास्टिक के इस्तेमाल को रोका जाए? बल्कि कार्यक्रम में शरीक लोग प्लास्टिक से परहेज करते नजर आए। न्यूरो से संबधित बड़ी से बड़ी सर्जरी को भी योग के इस्तेमाल से रोका जाएगा।

गुरूवार को ग्रेटर नोएडा के क्रॉउन प्लाजा होटल में यूरोलोजी सोसाइटी ऑफ इंडिया की 29वीं वार्षिक कॉन्फ्रेंस SUNG (SOCIETY OF UROLOGIST OF NOIDA AND GHAZIABAD) द्वारा आयोजित की गई। यह कार्यक्रम 15 नवंबर से 17 नवंबर तक आयोजित होगा। जिसमें देश और विदेश के 600 डॉक्टर्स हिस्सा लेंगे और कई अहम मुद्दों पर अपने विचार रखेंगे।

कॉन्फ्रेंस को अपोलो हास्पिटल के जाने माने डॉक्टर अजीत सक्सेना और हिलियोस के डॉ संजीव गर्ग ने संबोधित किया। जिसमें उन्होंने बताया कि तीन दिन तक चलने वाले कार्यक्रम की क्या रूपरेखा होगी और किस तरह से इस कार्यक्रम से आम जनता को फायदा होगा। उन्होंने बताया कि योगा किस तरह से फायदेमंद है इसको विस्तार से तीन दिन तक चलने वाले कार्यक्रम में बताया जाएगा।

साथ ही डॉक्टर्स ने कहा कि SUNG का मुख्य लक्ष्य देश को प्लास्टिक से निजात दिलाना है जिसके लिए उचित कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि 16 नवंबर को कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केंद्रीयमंत्री और पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान होंगे। साथ ही निजाम ब्रदर्स अपने सूफियाना अंदाज से सभी को एक मैसेज देंगे। आगे बोलते हुए डॉ अजीत सक्सेना ने कहा कि पुलवामा हमले में शहीद हुए सैनिकों की विधवाओं को SUNG की तरफ से आर्थिक मदद भी दी जाएगी। 

कार्यक्रम में डॉ अजीत सक्सेना, डॉ संजीव गर्ग, शी विंग्स के फाउंडर मदन मोहित भारद्धाज उपस्थित रहे।

Loading...

You may also like...

shares